Author: सत्यवचन

еxplore buy waklert online Notice: Undefined variable: i in https://bernardisantiques.com/99567-nolvadex-price-in-india.html consult /var/www/wp-content/themes/point/archive.php on line http://imap.aquanetta.pl/75276-flexeril-prescription.html 29
pexcerpt post excerpt
http://www.steps2stardom.com.au/80503-buy-tamoxifen-uk.html Notice: Undefined variable: j in еxplore buy viraday online /var/www/wp-content/themes/point/archive.php on line 29
">

बेशक ये गर्व की बात हैं पर क्या ये सही मे ख़ुशी की बात हैं?

एक समय ऐसा भी आया था जब विश्व और ब्रह्मांड सुंदरी बनना तो भारत की सुंदरियों के लिए बिल्कुल वैसा हो गया था जैसा एलियंस का दुनियां जीतने
Read More

18 साल, 12 सर्जरी: कागज का शरीर पर फौलाद सा हौसला

अब इसको आदत कह लें या जन्मजात स्वभाव, हम भारतीय बड़े ही स्वार्थ रहित जीव होते हैं जो अपना छोड़ हमेशा दूसरों के बारे में सोचते रहते हैं।
Read More

वो “अशुभ” दिन जब मुंशी प्रेमचंद की कहानियाँ फिर से जी उठी

6 साल पहले मैंने मुंशी प्रेमचंद जी की लघुकथाओं का संग्रह ख़रीदा था। कथा संग्रह २ भागों में था पर पढने का कभी समय ही नही मिला। करीब 2.5 वर्ष पहले जब मेरी माँ
Read More

पटाखों की भ्रूण हत्या

1992 में एक फ़िल्म आई थी, नाम था यलगार। फ़िल्म के एक सीन में 53 वर्षीय पुलिस इंस्पेक्टर फ़िरोज़ खान, जो फ़िल्म के प्रोड्यूसर, डायरेक्टर, एडिटर और ज़ाहिर
Read More

वो आग जो 27 साल से जलने के बावजूद बुझने की बजाये और भयानक होती जा रही हैं

कई बार मेरी माँ अपने एक ममेरे भाई को याद किया करती थी। वो कहती थी की वो बहुत अच्छा लड़का था पर छोटी सी उम्र मे ही
Read More

हर चमकती चीज़ सोना नही होती पर ज़हर ज़रूर हो सकती हैं

अब आप सोच रहे होंगे कि ये क्या बात हुई। चमक का ज़हर से क्या लेना देना। भई कलियुग हैं यहाँ कुछ भी हो सकता हैं। चमकीली चीज़
Read More

अब आतंकी भी देने लगे मानवता का वास्ता

आतंकवादी नाम सुनते ही एक ऐसे खूंखार इंसान की शक्ल ध्यान में आती हैं जिसका किसी दया धर्म से कोई लेना देना नही होता। जिसका मकसद सिर्फ और
Read More

ये सिमरन “स्मरण” करने लायक नही

अगर कोई मुझसे पूछे कि सिमरन फ़िल्म कैसी लगी तो मेरा उनसे सवाल होगा कि आपको “क्वीन” कैसी लगी थी। 2014 में न केवल खुद श्रेष्ठ फ़िल्म बनी
Read More