नवीन लेख

बेशक ये गर्व की बात हैं पर क्या ये सही मे ख़ुशी की बात हैं?

एक समय ऐसा भी आया था जब विश्व और ब्रह्मांड सुंदरी बनना तो भारत की सुंदरियों के लिए बिल्कुल वैसा हो गया था जैसा एलियंस का दुनियां जीतने
confido mrp price Read More

18 साल, 12 सर्जरी: कागज का शरीर पर फौलाद सा हौसला

अब इसको आदत कह लें या जन्मजात स्वभाव, हम भारतीय बड़े ही स्वार्थ रहित जीव होते हैं जो अपना छोड़ हमेशा दूसरों के बारे में सोचते रहते हैं।
Read More

वो “अशुभ” दिन जब मुंशी प्रेमचंद की कहानियाँ फिर से जी उठी

6 साल पहले मैंने मुंशी प्रेमचंद जी की लघुकथाओं का संग्रह ख़रीदा था। कथा संग्रह २ भागों में था पर पढने का कभी समय ही नही मिला। करीब 2.5 वर्ष पहले जब मेरी माँ
Read More

पटाखों की भ्रूण हत्या

1992 में एक फ़िल्म आई थी, नाम था यलगार। फ़िल्म के एक सीन में 53 वर्षीय पुलिस इंस्पेक्टर फ़िरोज़ खान, जो फ़िल्म के प्रोड्यूसर, डायरेक्टर, एडिटर और ज़ाहिर
Read More

वो आग जो 27 साल से जलने के बावजूद बुझने की बजाये और भयानक होती जा रही हैं

कई बार मेरी माँ अपने एक ममेरे भाई को याद किया करती थी। वो कहती थी की वो बहुत अच्छा लड़का था पर छोटी सी उम्र मे ही
Read More

अब आतंकी भी देने लगे मानवता का वास्ता

आतंकवादी नाम सुनते ही एक ऐसे खूंखार इंसान की शक्ल ध्यान में आती हैं जिसका किसी दया धर्म से कोई लेना देना नही होता। जिसका मकसद सिर्फ और
Read More